Incest पापी परिवार की पापी वासना

Interested in
?
Join 46K members in 70K discussions
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
सोनिया डॉली के पीछे-पीछे बेडरूम में दाखिल हुई और उसने हसीना को बिस्तर पर चढ़कर अपनी माँ की चौड़ी फैली जाँघों के बीच लपकते हुए देखा। राज मुस्कुराया, और अपने तेजी से जागते लौड़े को मम्मी की कस के भींची हुई मुट्ठी में हिलाने लगा।

“इधर आ, सोनिया,” उसने पुकारा, “आ मेरे लौड़े पर बैठ और देख कैसी मस्ती से डॉली मम्मी की चूत से मेरा वीर्य चूस कर साफ़ करती है !”

सोनिया भी लपक कर बिस्तर पर चढ़ी, और उतावली होकर राज की मजबूत जवान जाँघों पर सवार हो गयी। रजनी जी ने अब भी बेटे के लौड़े को हथेली में दबोच रखा था, और हौले हौले मुठ लगा रही थीं। उनकी बेटी भूखे अंदाज में उनकी भुखार से गरम और वीर्य से सराबोर चूत को चपड़-चपड़ बिल्ली जैसी चाट रही थी।

“अपने हाथों से इसके मुँह में घुसा, हरामजादी मम्मी !”, जब उसने सोनिया के गरम और भीगी बुर की दस्तक को अपने कटुवे सुपाड़े पर महसूस किया तो राज कराह उठा।

रजनी जी ने अपने बेटे के तने लौड़े को सोनिया की तंग और भीगी चूत के छेद पर दागा, और बेटे के लौड़े को अपने कोमल हाथों में लिये हुए उसकी चूत में ठूसने लगीं। लगे हाथ, वे बेहद खुशी से जवान लड़की की चूत का जायजा कर रही थीं।

अरे हरामजादी! तुझे भी मौक़ा मिलेगा!”, राज ने हँसते-हँसते माँ को डपटा।

रजनी जी भी जान कर अपने बेटे को देख मुस्कुरायीं, और अपने हाथ को जुदा कर दिया। बदले में उन्होंने अपनी पूरी तवज्जो बेटी के मुंह और जीभ के कारण उनकी खुली, उचकी बुर में उमड़ते एहसासात पर दे दी।
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
अरे हरामजादी! तुझे भी मौक़ा मिलेगा!”, राज ने हँसते-हँसते माँ को डपटा।

रजनी जी भी जान कर अपने बेटे को देख मुस्कुरायीं, और अपने हाथ को जुदा कर दिया। बदले में उन्होंने अपनी पूरी तवज्जो बेटी के मुंह और जीभ के कारण उनकी खुली, उचकी बुर में उमड़ते एहसासात पर दे दी।

राज ने ऊपर सोनिया की ओर देखा और उसके मम्मों को दबोच कर बोला।

“आजा, जानेमन, तुझे चोर्दै !” राज गुर्राया, और अपने भारी लन्ड को एक ही खौफ़नाक झटके में लड़की की तंग चूत में घुसेड़ दिया।

“ऊह ::: ऊहहह, राज ! बाप रे! चोद, चोद मुझे !”, सोनिया कराही। और नौजवान राज का हैवानी लन्ड एक बार फिर नाजनीना की भूखी चूत में फिसल गया।

उनके करीब, डॉली शौक़ से अपनी माँ की वीर्य से सराबोर चूत को चाटे जा रही थी। अपनी मम्मी को चाट- चाट कर झड़ाने में उसे तक़रीबन उतना ही लुफ्त आता था, जितना की अपने हर वक़्त सैक्स पर आमादा भाई से चुदने में आता था :: : वहशियाना और बेलगाम सैक्स का शौक़ तो पूरा शर्मा ख़ानदान पालता था।

“मम्मी, चूत की मलाई से हमें भी नवाजिये !”, डॉली गुर्राती हुई बोली, उसके अल्फ़ाज़ मुँह पर चिपटी चूत के कारण दब से गये थे। डॉली की गर्मायी जीभ उसकी मम्मी के चोंचले को मरोड़-मरोड़ कर उसपर चाबुक जैसी बरस रही थी। “मम्मी, बेटी की जीभ पर उडेलिये ना राज भाई का वीर्य जो आपकी चूत में भरा

। “ऊऊहहह, हँ, बेटी!”, रजनी जी ने लम्बी आह भरी।।

रजनी जी की अधेड़ चूत का बहाव अब और भी गरम और गाढ़ा हो चला था। बरी गरमजोशी वे अपनी बुर को डॉली के चेहरे पर उचका हीं थीं। उनकी चूत से टपकता उनके बेटे का वीर्य, डॉली की ठोड़ी पर टपक रहा था। कराहते हुए डॉली ने एक हाथ रजनी जी के चूतड़ों के नीचे सरकाया, और अपनी मम्मी की गुलाबी गाँड के छेद में उंगल देने लगी।

। साथ में, डॉली ने अपनी बाकी उंगलियाँ रजनी जी की लबालब चूत में घुसायीं, और मम्मी की चूत में उंगल - चोदी करते हुए भूखी कुतिया के लहजे में उनके अकड़े हुए चोंचले को चूसने लगी।

सैक्स की मस्ती से उनका रोम-रोम ऐंठ रहा था, और रजनी जी बिलबिलाने लगी थीं। दोनो हाथों में डॉली के सर को दबोच कर, वे अपनी चूत को बेटी के चेहरे पर बेतहाशा मसलती जा रही थीं। डॉली की जीभ तो चाबुक जैसी सनसना कर उसकी मम्मी की सराबोर चूत में लपालप चल रही थी।

“ऊहहह! मैं झड़ रही हँ! ऊपर वाले! मैं झड़ रही हूँ, बेटी !” रजनी जी लम्बे लम्बे साँस भरते हुए अपनी बेटी के शातिर मुँह से अपनी धमाके खाती चूत को चटवाती हुई बेहद सुकून पा रही थीं।
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
77 मेजबान

डॉली अच्छी तरह से वाक़िफ़ थी कि उसकी मम्मी की चूत झड़ रही है। क्यों न हो, उसकी जीभ जो मम्मी की चूत से फेंके हुए वीर्य से लबालब चुपड़ी हुई थी, सुर्ख जीभ पर राज का हलका पीला वीर्य और चूत का मवाद लथेड़ा हुआ था। डॉली ने अपनी जीभ को रजनी जी की माड में और अंदर पेला, और खुशी की किलकारियाँ मारती हुई ‘सुपड़-चुपड़-गड़प्प' की आवाजें करती हुई, मजे से माँ की चूत को दुहती गयी, और चटखारे ले ले कर गुनहगार सैक्स का लुफ्त उठाती गयी। | मोहतरमा रजनी शर्मा अब हिल- हिल कर कराह रही थीं, उनका हूरों सा बदन वहशियाना अंदाज में सिहर रहा था, क्योंकि बेपनाह सुकून के झटके -दर-झटके उनके कंपकंपाते जिस्म में उमड़ते जा रहे थे।

“मम्मी, इत्मिनान से झड़िये, मेरे मुँह पर !”, डॉली कराही। उसकी आवाज उसकी मम्मी की झाँटेदार कसमसाती चूत में कही दब गयी। “झड़ती रहो मम्मी!” । | डॉली का मुँह माँ की चूत से फूटे वीर्य के एक और सैलाब से भर गया : उबलता हुआ, गरमा गरम और खुशबूदार वीर्य। उसने अपने पूरे चेहरे को मम्मी की बुर पर रगड़-रगड़ के पोंछा, और सिलसिलेवार अपनी जीभ को, जितना अंदर जा सकती थी, रजनी जी की गरम, काँपती चूत में घोंपती रही, बीच-बीच में उनके झाँटेदार चूत को बाहर से चूसती भी रहती।। | ऑरगैस्म की आखिरी लहर उनके जिस्म में उठी, और फिर रजनी जी का पूरा बदन ऐंठ गया। उन्होंने टाँगों को चौड़ा कर फैलाया, दोनों हाथों से बेटी के सर को दबोचा और अपनी चूत को गजब से सिकोड़ने-ढिलाने लगीं।

सोनिया को अपनी जवान टाइट चूत में राज के मोटे लन्ड की दनदनाहट से बड़ी मस्ती आ रही थी। उसने राज के कूल्हों पर बैठकर धीमे से अपनी नाजुक मुलायम चूत को उसके नौजवान तगड़े लन्ड पर उतारा था, फिर कुछ मिनट तक अपनी चूत में राज के लन्ड को थामे उसकी लम्बाई और मोटाई का ठीक से जायजा किया। अपनी जवान बुर को फिर एक दफ़े राज के लम्बे और टनाटन फड़कते लौड़े के गोश्त से टूसा हुआ पाकर कितना चहकी थी सोनिया। | अट्ठारह साल की परी जैसी लड़की सोनिया ने फिर उसके लन्ड पर बैठे बैठे फुदकना शुरू कर दिया। राज तो अपने रौंदते लन्ड के हर इन्च को उसकी टाइट चटखाती चूत से कसता हुआ पाकर ऐसा उतावला हो रहा था, जैसे जन्नत का सवाब मिल गया हो। उसके खम्बे जैसे लन्ड की रगों में खून खौलने लगा, उसका सुपाड़ा सूज गया, जब सोनिया की कसी फिसलन भरी बुर के गोश्त ने उसे अपनी गिरफ़्त में भींचा, और उसके तने को ऐसे पकड़ के ऊपर और नीचे मसल-मसल कर निचोड़ा, जैसे चूत से मुठ मार रही हो।

उसकी टाइट चूत राज के लन्ड पर कसती गयी, जैसे साँचे में गरम मोम उडेल कर मोमबत्ती बनी हो। उसके नारंगी जैसे मम्मे राज की आँखों के सामने झूल-झूल कर ललचाता हुआ नाच कर रहे थे, सो राज ने आगे बढ़ कर उसके निप्पलों को चाटा, फिर अपने चेहरे को दिलफ़रेब हसीना के मखमल से मुलायम मम्मों पर दबा दिया। | ‘या भगवानया, तेरा लाख शुक्र जो आज सोनिया जैसी गुलबदन लड़की की चुदाई का मौक़ा बख्शा!', राज ने सोचा। | सोनिया तो, जाहिर था, चुदाई की शौक़ीन थी, और राज दावे के साथ कह सकता था, कि जब तक उसकी संगत में रहेगी, चुदाई से कभी महरूम नहीं रहेगी। इसके अलावा, सोनिया की तरकीब भी कामयाब हुई थी, लिहाजा देर-सवेर उसे सोनिया की बेहद दिलकश, और मोटे-मोटे मम्मों वाली माँ को चोदने का भी मौक़ा मिल ही जायेगा।
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
सोनिया दीवानगी से अपने सुडौल चूतड़ों को आजू-बाजू फटक रही थी और अपनी कमर को राज के तने हुए लन्ड पर ऊपर-नीचे पटके जा रही थी। चूत के ऊपर और नीचे घिसाव के अलावा, वो अपनी कमर को बलखाती हुई, उसे राज के लन्ड पर ताकीद कर रही थी। राज भी अपने कूल्हों को उचका कर सोनिया के नीचे पटकते चूतड़ से टकराता, और अपने मोटे लन्ड को उसकी भाप छोड़ती, और रिसती मांद में ऊपर को घुसेड़ डालता।

राज का लन्ड उसके जिस्म को ढूंसे दे रहा था, और उसकी मस्त जवान बुर से खोद - खोद कर चूत के मवाद को बाहर बहा रहा था। उसका फूला कटुवा सुपाड़ा किसी मूसल की तरह चूत के पेंदे को कूटता जा रहा था, जिसके कारण सोनिया की चूत लबालब मवाद बहा रही थी।

सोनिया किसी कुतिया जैसी हाँफ़ रही थी .:. उसका पाकीजा चेहरा हवस के मारे दमक रहा था :: :: पलकें भींची हुई और मुंह खुला हुआ था। और वो माहिर चुदाई से पैदा होने वाली बेपनाह जिस्मानी लज्जत के मारे हाँफ़-हाँफ़ कर कराहती जा रही थी!

राज का लम्बा तगड़ा लन्ड उनकी कस के जकड़ती योनि में इस क़दर वार कर रहा था कि सोनिया को लगा जैसे चूत को फाड़कर उनके मुंह से निकल आयेगा ::: और उनके मुँह से चीरता हुआ बाहर वीर्य निकालने लगेगा। । “चोद चोद चोद चोद.. ', रजनी जी जप रही थीं, जैसे ही वे राज के रौंदते शैतानी लन्ड पर नीचे फिसलती, तो उस लफ़्ज़ को बोल देती।
 

Made4kill

Member
Joined
Feb 22, 2020
Posts
2
55 निम्न वर्ग

* मैं चढ़ कर कमोड पर कमलाबाई के सामने बैठ गया और उसकी जाँघों को फैला कर अपनी जाँघों के ऊपर रख दीं। कमलाबाई को तो जैसे किसी बात की सुध नहीं थी, बस सिर्फ अपनी वैसलीन से चिकनी हो चुकी भोंसड़ को मेरी उंगली पर मसलती जा रही थी।” ।

“मैने मौका देखकर अपने लन्ड को उसकी गरम भोंसड़ी पर दबाया, अपनी उंगली के नीचे लन्ड को छुपाया और पलक झपकते ही उंगली बाहर निकाली और उसके बदले अपना लौड़ा अन्दर घुसा डाला। फिर तो हरामजादी ऐसी चीखी की अगर मैं उसके मुंह को अपनी हथेली से नहीं दबाता तो सारे पड़ोसी घर आ जाते। कुतिया छह महीने बाद पहली बार किसी लन्ड को अपनी चूत में लिये थी। पर मिनटों में उसे जवानी की यादें ताजा हो गयीं और फिर पेशेवर रन्डी की तरह लन्ड का मजा लेने लगी।”

“जल्द ही कमलाबाई अपनी झाँटेदार चिकनी चूत को ऐसे उचकाने लगी, कि मैने सोचा बुढ़िया को अपनी जवानी के दिन याद आ गये !” टीना जी ने अपना मुँह खोला तो, परन्तु कोई स्वर नहीं निकला, उनकी स्वयं की योनि से उनके पुत्र की रगड़ती ठोड़ी पर द्रवों का प्रवाह प्रारम्भ हो गया था। मम्मी, सच, बुढ़िया की भोंसड़ी में ग़जब का जादू था। मेरा लन्ड ऐसा लग रहा था कि किसी गरम भट्टी में घुसा हुआ है !”
“साली आवारा कुतिया की तरह बिलबिला रही थी, और मैं उसे मजे से चोद रहा था। मैने नीचे देखा तो मेरा लन्ड उसकी भोंसड़ी में अन्दर-बाहर, अन्दर-बाहर चले जा रहा था। उसकी भोंसड़ी के झोल भी मेरे लन्ड के साथ फच्च - फच्च करते हुए अन्दर बाहर हिल रहे थे। जब लन्ड को बाहर खींचता तो रन्डी ऐसी स्टाइल से मेरे लन्ड पर भोंसड़ी जकड़ती थी कि सोलह साल की कुंवारी चूत हो! क्या कस के निचोड़ती है हमारी भंगिन अपनी चूत से ! साथ-साथ अपने मुंह से ऐसी गन्दी गाली-गलौज करती जा रही थी। अरे मम्मी, आप तो ऐसी गालियाँ सपने में भी नहीं सोच सकतीं !”

परन्तु टीना जी अच्छी तरह से अनुमान लगा सकती थीं कि नीच कुल की महिलायें कैसी भद्दी भाषा का उपयोग कर सकती हैं। जय अपनी माँ के हर हाव-भाव को ताड़ता हुआ आगे कहने लगा।

कहती थी, “अबे सूअरनी की औलाद, तेरी माँ ने भी संदास पर चुद कर तुझे पैदा किया है! ऍह ... ऍह ... तुम शर्मा लोग हम भंगियों से ही तो सीखे हो संडास पर चोदना! :: ऍह :: आँह ::अपनी सुअरनी माँ की चूत समझ रखी है क्या जो लन्ड से खुजा रहा है। चोद साले चोद! खैर मना, मेरा मरद जिन्दा नहीं,... आँह :: ‘नहीं तो ऐसी कमजोर चुदाई देख कर तेरी अभी गाँड मार लेता। बस मम्मी, मुझे ऐसे ही रन्डी की तरह चैलेंज दे-दे कर पागल कर रही थी हरामजादी!”

“फिर उसने मेरी गाँड पर अपनी उंगलियों के नाघूनों को गाड़ना शुरू कर दिया और मेरे लन्ड को अपनी भोंसड़ी में और अन्दर डालने की कोशिश करने लगी। मेरा लन्ड अब पूरा का पूरा अब अन्दर घुस चुका था। और मम्मी मेरे टट्टे झूल झूल कर कभी उसकी गन्डी गाँड पर टकराते तो कभी कमोड पर। पर कमलाबाई तो चुप होने का नाम नहीं लेती थी। जानती हो क्या बोली वो ?”, जय ने कुटिलता से मुस्कुराते हुए पूछा।
Amazing story
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
राज गुर्राता हुआ और दम लगाकर उसकी चूत में पेल रहा था, सोनिया की हड्डियों को झकझोर रहा था, और उसकी टाइट कुलुबुलाती मांद में ऐसे ठूस रहा था, कि सोनिया को एक पल लगा उसके कूल्हे टूट जायेंगे! बड़ा शौक़ था उसे राज की पहलवानी चुदाई का :: : पिछली रात अपने मजबूत बाप से की चुदाई की याद दिलाता था ::: दनादन, गहरे, खूब गहरे, और देर तक चलने वाली चुदाई ::::

दोनो ने इकट्ठे और भी फुर्ती से मसलना शुरू कर दिया, क्योंकि दोनो ही सैक्स के इंतेहाई सुकून की चोटी के करीब परवाज हो रहे थे। सुलगती हवस और मस्ती की लपटें सोनिया की जवान पसीने से सनी जाँघों में उमड़ती,
और उसकी अकड़ी पीठ में कौंधती हुई, दीवानगी के घूमते भंवर में तब्दील होकर उसकी लन्ड भरी चूत में गहरी उतर जाती।

राज के टट्टे फूल गये थे, अब वो हवस के लावा की बौछारें उडेलने को बस तैयार हो चुके थे। वो बेतहाशा अपने भूखे गोश्त को अपने ऊपर बैठी जवान लौन्डिया के अंदर पीटे जा रहा था, उसकी चूत के पेंदे पर चाबुक जैसा मार रहा था, और उसकी कंपकंपाती जवान बुर को अपने तमतमाते लन्ड से चोदता हुआ शदीद धक्कों से उसके बदन को झकझोर रहा था।

| सोनिया आगे को गिरी और राज की गरम जीभ को अपने मुँह में चूस कर उसे चूम लिया। उसकी तो ये तमन्ना थी कि काश राज के एक नहीं, दो लन्ड होते, तो वो एक को चूस लेती और दूसरे से चुद लेती ... दो से भले तीन होते, ताकि अपनी गाँड में एक लन्ड को भरकर वो लुफ्त भी उठा लेती। फिर उसे एहसास हुआ की उसकी चाहतों का हल तो उसके खुद के घर में है! थे तो सही उसके पास तीन लन्ड, बस देर थी, तो उन्हें एक साथ, एक कमरे में इकट्ठा करने की, बाक़ी अपने आप हो जाता। सोनिया तो उस मुबारक घड़ी के लिये बेताब हुई जा रही थी! ।

राज की जीभ को, जिससे अब भी उसकी मम्मी की चूत के मवाद का जायका आ रहा था, चूसते हुए सोनिया ने अपनी गाँड के नीचे हाथ किया और प्यार से उसके टट्टों को सहलाया। दूसरे हाथ से वो कभी अपने तने निप्पलों को मसलती, तो कभी अपनी गाँड के सुराख में घुसेड़-घुसेड़ कर उंगल करती। वो अपनी जवानी की हवस के मारे बड़े जुनून से अपने क़ायनाती जिस्म के हर हिस्से पर अपना हाथ फेरती जा रही थी।

“ऊ ऊहहहह, मादरचोद! राज मैं झड़ने वाली हूँ! साले कटुवे! मैं झड़ने वाली हूँ !”, सोनिया ने राज के हाँफ़ते मुँह में गरम साँसें फेंकते हुए बोला। “साले मादरचोद! तू भी मेरी चूत में अपना लन्ड झड़ा! तेरे वास्ते हरामी पिल्ले पैदा करूंगी मैं ! तेरे जैसे कटुवे पिल्ले, जो तेरे जैसे मादरचोद भी होंगे! अहहहह! मादरचोद !”
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
78 राज का हरम



राज ने हुंकार निकाली और जोश से अपने लन्ड को उसकी फड़कती बुर में पेलने लगा। उसका भारी-भरकम लन्ड सोनिया की चूत में मूसलों की तरह बरस रहा था। सोनिया की जवान चूत की माड से किसी फ़व्वारे की तरह मवाद बह रहा था, झागदार और दूधिया रंग का मवाद, जो राज के झाँटेदार टट्टों के ऊपर से बहता हुआ उसकी जाँघों को भिगो रहा था।

ऊऊऊहहह, मादरचोद! साले माँ की भोंसड़ी चोद चोद कर तेरा लन्ड कमजोर हो गया है क्या ? हरामी, मजाल है तो मेरी टाइट चूत में वीर्य निकाल , तुझे कसम है तेरे ईमान की, हरामजादे !” वो चीखी।।

राज ने उसकी चूतड़ों को ऊपर उठा दिया, जैसे सिरफ़ उसका सुपाड़ा सोनिया की चूत के झपटते होठों के अंदर कैद रहा, और कुछ देर तक वहीं पर उठाकर पकड़े रखा, और अचानक उसने दाँत पीसे और दे पटका नीचे अपने तने लन्ड के ऊपर।

“ले हरामजादी काफ़िर रन्डी, देख इस मादरचोद लन्ड का जमाल ! बोल साली, है तेरे हिजड़े बाप के लन्ड में ऐसा दम? चोद-चोद के तेरी काफ़िर चूत को भोंसड़ी नहीं बना दिया, तो मेरा माँ बहन को चोदना बंद कर देना !”, राज गुर्राया, “ऊपर वाले! देख मैं भी झड़ रहा हूँ !!”

सोनिया मारे खुशी के चीख पड़ी जब उसे राज को अपनी बुर में वीर्य की पिचकारियाँ मारते महसूस किया। उसकी चूत से भी मवाद बहने लगा, और राज तो अपने टट्टों को बहते नल जैसा खाली कर रहा था। हर दफ़े जब वो जवान सोनिया की कुलुबुलाती चूत को हाथों में पकड़कर अपने लन्ड पर नीचे पटकता, तो राज वीर्य की एक भरपूर बौछार उसकी बुर में भर देता।

सोनिया कराही और हाँफ़ी, फिर दीवानों जैसे अपने सर को आजू-बाजू पटकती हुई उसके पुखता, धड़कते और चूत में वीर्य भरते लन्ड पर ऊपर और नीचे फुदकने लगी। लगता था जैसे चूत को त्यूब-वैल पर बैठा रखा है। राज के लन्ड पर सवार सोनिया अपने चूतड़ों को बेतहाशा झटक रही थी, जैसे उसके अपनी चूत के पुट्ठों से खींच-खिंच कर राज के टट्टों में भड़े वीर्य को चूस रही हो।

राज थक कर बिस्तर पर देर हो गया, उसका मजबूत सीना दम उठ उठ कर साँसें ले रहा था। सोनिया अपनी वीर्य से सराबोर चूत को लौन्डे के अब भी तने लन्ड पर ऊपर और नीचे रगड़ाती रही, राज के लन्ड से वीर्य की आखिरी बून्दों को निचोड़-निचोड़ कर निकाला उसने, और जितना होता था, अपने ऑरगैस्म की मुद्दत को खींचती चली गयी।

फिर वो भी गश खा बिस्तर पर गिर गयी, और उसे मोहब्बत से अपनी बाँहों में भर कर लेट गयी। उसने जब बड़ी अक़ीदत से राज को चूमा, तो उसके अकड़े मम्मे राज के सीने पर रगड़ने लगे। फिर धीमे से उसने अपनी चूत को राज के लन्ड पर से निकाल खींचा। दो पल के लिये राज के लन्ड ने अपनी तनातनी को क़ायम रखा, पर फिर ढीला पड़कर, उसकी जाँघों पर एक कुंडली मारे काले साँप जैसा सो गया। आधा - तना होने पर भी मुआ कैसा रोबदार लगता था ::वीर्य और चूत के मवाद से चुपड़ा हुआ।

इस गैर काबिल-ए-बर्दाश्त मंजर को देख रजनी जी के गले से एक कराह निकली और वे अपने बेटे की चौड़ी फैलायी जाँघों के बीच लपक कर आ पहुँचीं। उन्होंने उसके लिसलिसे लन्ड को अपने गरम मुँह में लिया और ममता से उसे चूसने लगीं। वीर्य और चूत के मवाद की आमेजिश से बने लाजवाब शहद का जायका लेकर वे कराह उठीं, और लिसलिसी जवान चूत में सोखे हुए बेटे के लन्ड के कट्टे-मीठे जायके का लुफ्त लेने लगीं।
 
OP
W

Wasp

Member
Joined
Jun 10, 2022
Posts
2,581
बड़ी महारत से चाट-चाट कर उन्होंने अपने बेटे के पीले- सफ़ेद मवाद से सने लन्ड को चमचमाता गहरा बैंगनी कर दिया। बड़ी सफ़ाई से उन्होंने उसके टट्टों से बहे वीर्य को राज के छड़ जैसे लन्ड पर से चाट कर उसे चमका दिया था। और तो और, उन्होंने उसकी जाँघे और पेट भी चाटे, किसी सूअरनी की तरह वे अपनी थोथनी उसकी झाँटों में गाड़े और ‘सर्र- सर्र-सुड़प-सड़ाप्प' आवाजें निकालती हुई चाटती जा रही थीं।

उधर बिस्तर के दूसरे छोर पर डॉली और सोनिया ने एक दूसरे की चूत चटाई शुरू कर दी थी। सोनिया डॉली की झाँटेदार चूत को अपनी जीभ से चाट जा रही थी, और डॉली अपने भाई का मलाईदार वीर्य

सोनिया की सुर्ख - लाल चूत में से चूस-चूस कर साफ़ किये दे रही थी।

रजनी जी ने पल भर के लिये अपना सर उठा कर दोनों लड़कियों को एक दुसरे को चाटते हुए देखा। दोनों हसीनाओं के बदन एक दूसरे से काफ़ी मुखतलिफ़ बनावट के थे। डॉली के लम्बे बाल, मोटे-मोटे ख़रबूजों जैसे मम्मे थे, पतली कमर, और मोटे चूतड़, क़द कुछ ठिगना, मजबूत काठी। दूसरी ओर सोनिया चुंघराले छोटे बालों वाली, लम्बे क़द की और नारंगी जैसे मम्मों वाली, नाजुक काठी की हसीना थी। अपनी बेटी के शातिर मुंह से अपनी चूत में सैक्स के इंतेहाई सुकून को पाने के बाद उन्होंने दम भी नहीं लिया था, कि उनकी हवस की आग फिर से भभक उठी। उनके खानदानी सैक्स जश्न में हसीन गुलबदन सोनिया कि शिरक़त हो जाने से रजनी जी और उनके बच्चों के बीच के हवसनाक और गुनहगार रिश्ते में एक नया जाविया जुड़ गया था, जिसका वे भरपूर लुफ्त उठाने का मंसूबा रखती थीं। उन्होंने सर उठाकर बेटे की ओर देखा और बाजारू अदा से मुस्कुरायीं।

“नन्हें पहलवान, उतरियेगा एक दफ़े और मैदान में ?”, वे हुंकार कर बोलीं, “बांदी की गाँड आपकी तवज्जो की मुन्तजिर है। आपसे गुजारिश है कि आप अपने मादरचोद लन्ड के जलवों से वालिदा की गाँड को नवाजें !”

“आपका हुक्म सर आँखों पर, पर बंदा अर्ज करना चाहता है कि लन्ड जरा सुस्ता रहा है, आपकी सरगर्मी ही इसकी खोयी बुलन्दगी को बहाल कर सकती है! एक बार खड़ा कर दे हरामजादी, फिर तू जहाँ बोल चोद हूँगा !”, दाँत पीस कर वो बोला।

राज ने हाथ नीचे कर के अपने टट्टों का जायजा लिया, हौले से दबा कर देखा, और जब मालूम हो गया कि ताजा-तराव हो गये हैं, तो अपनी हथेली को ऊपर, अपने लन्ड पर लपेटा और हौले-हौले ऊपर नीचे पम्प करने लगा।

रजनी जी भी उसका हाथ बंटाते हुए किसी बछड़े जैसे उसके सुपाड़े को चूसने लगीं।

“ऊ ऊह, हाँ, मेरे जिगर! मार मुठ मम्मी के मुँह में, वे हाँफ़ीं, मादरचोद, जब तन जाये तो याद से मेरी गाँड में घुसाना, कमबख़त जल रही है लन्ड के इंतजार में !”

बजा फ़र्माया मम्मी !”, राज हँसा, “तू गाँड में तेल लगाये रख बस !” * डॉली बेटा, ले आयीं वैसलीन की डिबिया ?”, उन्होंने अपनी बेटी से पूछा।

आँटी, मैं लगाऊँ ?”, उतावली सोनिया ने बीच में टोका।

 
Top